Sunday, February 28, 2016

राधे-राधे बोल भगत

-बृजनाथ श्रीवास्तव
वृन्दावन में
रहना है तो
राधे-राधे बोल भगत

मंदिर-मंदिर
घाट-घाट पर
पंडों की है भीड़
तुम घर बाहर
छोड़कर आये
यहाँ बसाने नीड़
माया मंदिर
की करतूतें
चुपके-चुपके तोल भगत

अपने-अपने
सबके हित हैं
अपने-अपने राग
छोड़ गोपिका
संग कन्हाई
कौन खेलता फाग
यहाँ पुजारी
और देव के
अपने-अपने मोल भगत

मुँह मत खोलो
कुछ न सुनों तुम
रखो बन्द कर आँख
बहुत जानने की
कोशिश में
गिर जाएगी साख
ज्ञान चक्षु की
बन्द खिड़कियाँ
धीरे-धीरे खोल भगत

-बृजनाथ श्रीवास्तव
[नवगीत संग्रह "रथ इधर मोड़िये" से]

No comments: