Sunday, February 14, 2016

रेशमी दिन

-रामबाबू रस्तोगी

फिर हवा के साथ                                                                
कुछ संवाद करने                                              
आ रहे हैं
गाँव के बरगद पुराने                                                                    

स्थगित आवागमन-                                      
क्यों ख़ुशबुओं का.                                              
किसलिये फूला हुआ -                                    
मुँह दोस्तों का                                                                                    
बैठ कर फिर
रेशमी दिन, याद करने                                              
याद करने चाँदनी
ओढ़े ज़माने                                  

प्रेत-बाधा से ग्रसित हैं                                                      
आस्थायें                                                        
भूमिका लिखवा रहीं                                          
ख़ुद भूमिकायें                                                                        
हांफती-रोती
सदी से बात करने                                                    
बात करने,
घाव पर मरहम लगाने                                                            

धूप-दीपक,आरती,                                            
अनुराग-चंदन                                                        
अल्पना-शुभकामना                                        
आशीष-वंदन                                                                
शुष्क आँखों में
चमकते रंग भरने                                                            
रंग भरने,
रंग का मतलब बताने
       
-रामबाबू रस्तोगी

No comments: